अच्छा होने की कठिनाई | विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा

अच्छा होने की कठिनाई | विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा

अच्छा होने की कठिनाई | विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा
अच्छा होने की कठिनाई | विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा
अच्छा होने की कठिनाई , विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा

अच्छा लगता है जब कोई अच्छा करता है,
अच्छा करने वाला तकलीफ से गुजरता है,
अच्छा होने की कठिनाई पर आती बाधाएं ,
कीमत कहाँ समझती दुनिया ये अखरता है।।
-डाॅ राजमती पोखरना सुराना


अच्छा होने की कठिनाई में सबसे बड़ी चुनौती है अपेक्षाएं।
अगर हम अच्छे बनें क्यों कि हमें अच्छे लोग ही पसंद हैं।
बस फिर अच्छा संसार बनाने के लिए स्वयं अच्छे बने।
-मधु खरे


अच्छा होने की कठिनाई, उज्जवल रास्तों की
कभी कभी बाधा बन जाती है क्योंकि दुनिया में
अच्छाई की कीमत, सब नही समझ सकते।
-रेखा अग्रवाल


अच्छा होना बूरा नहीं,
पर ध्यान रखों सदा कोई
तुम्हें छल न सके ।
क्योकि अच्छा होने की कठिनाई है,
हरवक्त छले जाते है,
नादां समझती दुनियां उन्हें
बस फायदा उठाना जानती है ।
-मृदुला सिंह


अच्छा होने की कठिनाई ये है कि जब हम लोगों के उम्मीदों पर खरा नहीं उतरते तब हमें बेवजह अपयश का सामना करना पड़ता है ।
-मंजू लता


अच्छा होने की कठिनाई वाकई मे
लाखों इम्तेहानो से गुज़रना पढ़ता है
सच्च का साथ आपको अकेला कर देता है
दिल के अनेकों बार टूटने पर भी
जख्मों को साथ लिए चलना पढ़ता है
विश्वास कायम रखने के लिए
अग्नि परीक्षा से गुजरना पढ़ता है।
-हरमिंदर कौर


विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा वो बहुत ही सुन्दर और अवश्यंभावी पूर्ण हो सकता बस हम सबको एकजुट होकर धरती मां को स्वर्ग बनाने के लिए तन,मन,धन एवं सकारात्मक भावनाओं का योगदान देना होगा। देंगे ना।
-मधु खरे


विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा
वो एक सपना था मेरा ,जो बरसों से देखा था
सुबह पूरा होने वाला था ,बहुत कुछ बदलने वाला था
मेहनत जी तोड़कर की थी ,बाधाएं भी पार की थीं
ईश्वर का सहारा लिया था, अपनी क्षमता पर यकीन किया था।
-हरमिंदर कौर


विनाश काले विपरीत बुद्धि
अहंकार, मद-मत्सर का तांडव नाच
यही तो है मानवता की हार
युद्ध किसी भी समस्या का हल नहीं हो सकता।
इसी विचार ने मुझे कल रात जगाए रखा।
-सुरक्षा खुराना


विचार जिसने मुझे कल रात जगाए रखा ,
आज की वो वर्तमान परीस्थिति
जो हुई है सब पर भारी
आज की युवा , है कितनी बेचैन
है तेज तर्रार , बेहद प्रतिभाशाली , पर
अहंकार और लोभ में डूबी हुई
मानना न चाहें किसी का कहना
ऊपर से ये विश्व युद्ध के आसार
रूस ने न रोका युद्ध , तो जाने क्या होगा
युक्रेन तो हो गया है बर्बाद
कहीं विश्व युद्ध भी न छिड़ जाए
फिर ???????
सोच – सोचकर मन भारी हो गया
रात आंखों ही आंखों में गुजर गया ।।
-मंजू लता


achchha hone kee kathinaee | vichaar jisane mujhe kal raat jagae rakha

achchha lagata hai jab koee achchha karata hai,
achchha karane vaala takaleeph se gujarata hai,
achchha hone kee kathinaee par aatee baadhaen ,
keemat kahaan samajhatee duniya ye akharata hai..
-daaai raajamatee pokharana suraana


achchha hone kee kathinaee mein sabase badee chunautee hai apekshaen.
agar ham achchhe banen kyon ki hamen achchhe log hee pasand hain.
bas phir achchha sansaar banaane ke lie svayan achchhe bane.
-madhu khare


achchha hone kee kathinaee, ujjaval raaston kee
kabhee kabhee baadha ban jaatee hai kyonki duniya mein
achchhaee kee keemat, sab nahee samajh sakate.
-rekha agravaal


achchha hona boora nahin,
par dhyaan rakhon sada koee
tumhen chhal na sake .
kyoki achchha hone kee kathinaee hai,
haravakt chhale jaate hai,
naadaan samajhatee duniyaan unhen
bas phaayada uthaana jaanatee hai .
-mrdula sinh


achchha hone kee kathinaee ye hai ki jab ham logon ke ummeedon par khara nahin utarate tab hamen bevajah apayash ka saamana karana padata hai .
-manjoo lata


achchha hone kee kathinaee vaakee me
laakhon imtehaano se guzarana padhata hai
sachch ka saath aapako akela kar deta hai
dil ke anekon baar tootane par bhee
jakhmon ko saath lie chalana padhata hai
vishvaas kaayam rakhane ke lie
agni pareeksha se gujarana padhata hai.
-haramindar kaur


vichaar jisane mujhe kal raat jagae rakha vo bahut hee sundar aur avashyambhaavee poorn ho sakata bas ham sabako ekajut hokar dharatee maan ko svarg banaane ke lie tan,man,dhan evan sakaaraatmak bhaavanaon ka yogadaan dena hoga. denge na.
-madhu khare


vichaar jisane mujhe kal raat jagae rakha
vo ek sapana tha mera ,jo barason se dekha tha
subah poora hone vaala tha ,bahut kuchh badalane vaala tha
mehanat jee todakar kee thee ,baadhaen bhee paar kee theen
eeshvar ka sahaara liya tha, apanee kshamata par yakeen kiya tha.
-haramindar kaur


vinaash kaale vipareet buddhi
ahankaar, mad-matsar ka taandav naach
yahee to hai maanavata kee haar
yuddh kisee bhee samasya ka hal nahin ho sakata.
isee vichaar ne mujhe kal raat jagae rakha.
-suraksha khuraana


vichaar jisane mujhe kal raat jagae rakha ,
aaj kee vo vartamaan pareesthiti
jo huee hai sab par bhaaree
aaj kee yuva , hai kitanee bechain
hai tej tarraar , behad pratibhaashaalee , par
ahankaar aur lobh mein doobee huee
maanana na chaahen kisee ka kahana
oopar se ye vishv yuddh ke aasaar
roos ne na roka yuddh , to jaane kya hoga
yukren to ho gaya hai barbaad
kaheen vishv yuddh bhee na chhid jae
phir ???????
soch – sochakar man bhaaree ho gaya
raat aankhon hee aankhon mein gujar gaya ..
-manjoo lata

Leave a Comment