अतिथि Post: सईद सबा उर रहमान- ‘आतिफ’ द्वारा निर्मित गज़ल

Aatif: Zindagi Se Mohabbat Ho Gayi Hai/आतिफ: ज़िन्दगी से मोहब्बत हो गयी है

अतिथि Post सईद सबा उर रहमान- 'आतिफ' द्वारा निर्मित गजल

Tujhse Mohabbat Karke Zindagi se Mohabbat ho gayi hai,
Shaam to Roz hoti thi Par ab kitni Khoobsurat ho gayi hai.

Yun to Ab Tak nahi kar saka tha Mere Dil pe Hukumat Koi,
Par  Aaj  is  Dil  Pe  kisi  Ki  Hukumat  Ho  gayi  hai. 

Guzarta  hun Jin Galiyon se Tere Ghar Jaane Ke liye main,
Kya kahun un Galiyon se bhi Kitni Apnaaiyat ho gayi hai.

Is Farebi Duniya Me Milwaaya hai Khuda ne Tujhse Mujhe,
Na Jaane Kaise Khuda ki Mujhpe Itni Rehmat ho gayi hai.

Ek Daur tha jab khudko Badqismat Qaraar Diya tha maine,
Par Tere Aa Jaane se Kitni Buland Meri Qismat ho gayi hai.

Bhala Kyun Kare ‘Aatif’ Tamanna ab us Aasmani Jannat ki,
Ki Tujh ko Paane se Meri Duniya hi  Jab Jannat ho gayi hai.

हमारे आज के अतिथि  एक लेखक है जो बहुत लिखते है। उनक नाम सईद सबह उर रहमान है। आतिफ़ पेशे से एक यांत्रिक इंजीनियर और जुनून से एक कवि। आतिफ उसका “ताल्लौलस” है, इसलिए उनके सभी कविता प्रशंसकों ने उन्हें इस नाम से जाना है। काव्य रचन और गज़ल लिखना उनके खून में है।

मेरे पिता, दादा और उनके सभी पूर्वज अपने समय के महान कवि थे। इसलिए कविता को उसके द्वारा प्रकृति के उपहार के रूप में विरासत में मिला है|

वह 08 वर्ष की आयु से कविताएं लिख रहे हैं, इसलिए अब लेखन के 25 से अधिक वर्षों का अनुभव है। इसके अलावा, उन्होंने कविता पर एक किताब “मेरे जज़बात” के रूप में लिखी है। आप आसानी से खोज कॉलम में केवल “मेरे जज़बात” लिखकर फेसबुक पर अपना पुस्तक प्रशंसक पृष्ठ आसानी से खोज सकते हैं। उसके साथ मेरी बातचीत सबसे सुखद थी मुझे विश्वास है कि आप इसे भी आनंद लेंगे|

और आतिफ के बारे में अधिक जानने के लिए उनकी साक्षात्कार पढ़ें

hamaara atithi aaj ek lekhak hai jo bahut likhata hai. usaka naam saeed sabah ur rahamaan hai. peshe ke dvaara ek yaantrik injeeniyar aur junoon se ek kavi. aatiph usaka “taallaulas” hai, isalie unake sabhee kavita prashansakon ne unhen is naam se jaana hai. kaavy apane khoon mein hai. mere pita, daada aur unake sabhee poorvaj apane samay ke mahaan kavi the. isalie kavita ko usake dvaara prakrti ke upahaar ke roop mein viraasat mein mila hai vah 08 varsh kee aayu se kavitaen likh rahe hain, isalie ab lekhan ke 25 se adhik varshon ka anubhav hai. isake alaava, unhonne kavita par ek kitaab “meel jaajaabaat” ke roop mein likhee hai. aap aasaanee se khoj kolam mein keval jaajaabet likhakar phesabuk par apana pustak prashansak prshth aasaanee se khoj sakate hain. usake saath meree baatacheet sabase sukhad thee mujhe vishvaas hai ki aap ise bhee aanand lenge

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: