अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

 

वह पगली

पता नही कहाँँ से आई थी “वह पगली”
सबकी आँँखोंं को बडी ही भायी थी “वह पगली” 
बडी अजीब थी, मलिन चेहरा ,मरियल सी देह
कांंतिविहिन काया की धनी थी “वह पगली”
कभी मंंदिर की सीढियोंं पर , कभी हाट-बाजारोंं मेंं
कभी नदियोंं-नालोंं पर बैठी नजर आती “वह पगली”
आकर जब भी पास खडी होती थी
अजीब ईशारोंं मेंं बातेंं करती “वह पगली”
कभी जो मैंं कुछ दे देती, वो खुश हो जाती
कभी जो मैंं टरका देती,तो मुझको गरिया जाती “वह पगली”
शायद हो उसके मन मेंं, कोई अधूरी अभिलाषा
पर मुख पर सदा ही रखती हर्ष की भाषा “वह पगली”
चेहरे के ऊपर पुती हुई ,गंंदगी के भीतर
होता मुझको था आभास, थोडी सी सुंंदर है “वह पगली”
आदत हो चुकी थी ,उसके रोज दिखने की
जो ना दिखती मन ये कहता, कहाँँ गई “वह पगली”
दुनिया उसको पागल कहती मगर
बडे शांंतभाव से सज्जनोंं के, झगडे निहारा करती “वह पगली”
और जब नजरेंं मुझसे टकरा जाती सहज ही
सवालोंं के कटघरे मेंं मुझको, खडा कर जाती “वह पगली”
“बताओंं कौन है पागल तुम या मै ?”
मुझ “सभ्य” को सदा ही निरुत्तर कर जाती “वह पगली”
उत्तर को ढुढ़ने मेंं ,मैंं हमेशा खो जाती
और मुझपर हँँसकर हमेशा निकल जाती “वह पगली”
दिशाओंं का भ्रम हमेंं रहता जीवन भर
पर रातोंं को भी अपने घरौदेंं मेंं, सही से पहुँँच जाती “वह पगली”
भागते रहते है हम पैसे,नाम और शौहरत के पीछे
कुछ नही है पास उसके फिर भी देखो, लोगो मेंं बहुत ही है मशहूर “वह पगली”

#सरितासृृजना


vah pagalee

pata nahee kahaann se aaee thee “vah pagalee”
sabakee aannkhonn ko badee hee bhaayee thee “vah pagalee”
badee ajeeb thee, malin chehara ,mariyal see deh
kaanntivihin kaaya kee dhanee thee “vah pagalee”
kabhee manndir kee seedhiyonn par , kabhee haat-baajaaronn menn
kabhee nadiyonn-naalonn par baithee najar aatee “vah pagalee”
aakar jab bhee paas khadee hotee thee
ajeeb eeshaaronn menn baatenn karatee “vah pagalee”
kabhee jo mainn kuchh de detee, vo khush ho jaatee
kabhee jo mainn taraka detee,to mujhako gariya jaatee “vah pagalee”
shaayad ho usake man menn, koee adhooree abhilaasha
par mukh par sada hee rakhatee harsh kee bhaasha “vah pagalee”
chehare ke oopar putee huee ,ganndagee ke bheetar
hota mujhako tha aabhaas, thodee see sunndar hai “vah pagalee”
aadat ho chukee thee ,usake roj dikhane kee
jo na dikhatee man ye kahata, kahaann gaee “vah pagalee”
duniya usako paagal kahatee magar
bade shaanntabhaav se sajjanonn ke, jhagade nihaara karatee “vah pagalee”
aur jab najarenn mujhase takara jaatee sahaj hee
savaalonn ke kataghare menn mujhako, khada kar jaatee “vah pagalee”
“bataonn kaun hai paagal tum ya mai ?”
mujh “sabhy” ko sada hee niruttar kar jaatee “vah pagalee”
uttar ko dhudhane menn ,mainn hamesha kho jaatee
aur mujhapar hannsakar hamesha nikal jaatee “vah pagalee”
dishaonn ka bhram hamenn rahata jeevan bhar
par raatonn ko bhee apane gharaudenn menn, sahee se pahunnch jaatee “vah pagalee”
bhaagate rahate hai ham paise,naam aur shauharat ke peechhe
kuchh nahee hai paas usake phir bhee dekho, logo menn bahut hee hai mashahoor “vah pagalee”

#saritaasrrjana

अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

 

हमारी आज के अतिथि  एक बहु-प्रतिभाशाली महिला हैं जो कई मायनों में गुणी है: एक लेखक, एक ब्लॉगर, एक गृहिणी, एक मां और एक कवि के रूप में उन्होंने सफलता हासिल की है। उनकी हर कविता आपकी आत्मा को हिला देने की और अनंत कल्पना प्रज्वलित करने की शक्ति रखती है। उसके साथ मेरी बातचीत सबसे सुखद थी| मुझे पूरा भरोसा है कि आप सब भी साक्षात्कार का आनंद लेंगे।

hamaaree aaj ke atithi  ek bahu-pratibhaashaalee mahila hain jo kaee maayanon mein gunee hai: ek lekhak, ek blogar, ek grhinee, ek maan aur ek kavi ke roop mein unhonne saphalata haasil kee hai. unakee har kavita aapakee aatma ko hila dene kee aur anant kalpana prajvalit karane kee shakti rakhatee hai. usake saath meree baatacheet sabase sukhad thee| mujhe poora bharosa hai ki aap sab bhee saakshaatkaar ka aanand lenge.

 


 

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: