कविता जन्मती है

कविता जन्मती है

ह्रदय की धड़कनों में धड़कती
शब्द बन अधरों पर धधकती
कलम ओर दवात जब कागज पर उकेरती
कवि की कल्पना जब वादियों में उड़ान भरती
समुद्री चक्रवातों से निकल कर भावनाये
कविता का रूप धरती
सुख दुख हो या हो खुशी
कवि की आत्मा जब मचलती
रोक न सकता कोई उस झंझावात को
तड़प तड़प कर दिल के कवि से
एक कविता जन्मती
तड़प तड़प कर दिल के कवि से एक कविता जन्मती
आकार शब्दो को मिलता जब विचारो का
हो जाती रचना कविता की
मिल जाता विराम लेखनी को
मिल जाता विराम कवि की कल्पना शक्ति को
– Seema Sharma Dubey


kavita janmatee hai

hraday kee dhadakanon mein dhadakatee
shabd ban adharon par dhadhakatee
kalam or davaat jab kaagaj par ukeratee
kavi kee kalpana jab vaadiyon mein udaan bharatee
samudree chakravaaton se nikal kar bhaavanaaye
kavita ka roop dharatee
sukh dukh ho ya ho khushee
kavi kee aatma jab machalatee
rok na sakata koee us jhanjhaavaat ko
tadap tadap kar dil ke kavi se
ek kavita janmatee
tadap tadap kar dil ke kavi se ek kavita janmatee
aakaar shabdo ko milata jab vichaaro ka
ho jaatee rachana kavita kee
mil jaata viraam lekhanee ko
mil jaata viraam kavi kee kalpana shakti ko

Leave a Comment