कुछ इस तरह बदली पहर ज़िंदगी की | सरसों की शाख़ पर  | एक पंखुड़ी उठाकर

कुछ इस तरह बदली पहर ज़िंदगी की | सरसों की शाख़ पर  | एक पंखुड़ी उठाकर

कभी नमकीन ,कभी मीठी,
कभी खट्टी कभी कड़वी भी हो गई।
कुछ इस तरह बदली पहर ज़िंदगी की।
-इला पचौरी


दहलीज दिल की कभी ..
उदास तो कभी रोशन हुई …
कुछ इस तरह बदली पहर जिंदगी की..!!
-(नेह)


कुछ इस तरह से बदली पहर ज़िंदगी की…
सफर में धूप तो बहुत होगी तप सको तो चलो,
भीड़ तो बहुत होगी नई राह बना सको तो चलो।
माना कि मंजिल दूर है एक कदम बढ़ा सको तो चलो,
मुश्किल होगा सफर, भरोसा है खुद पर तो चलो।
हर पल हर दिन रंग बदल रही है जिंदगी,
तुम अपना कोई नया रंग बना सको तो चलो।
राह में साथ कोई नहीं मिलेगा अकेले चल सको तो चलो,
महफूज रास्तों की तलाश छोड़ दो धूप में तप सको तो ही चलो,
छोटी-छोटी खुशियों में जिंदगी ढूंढ सको तो चलो।
यही है ज़िन्दगी कुछ ख़्वाब चन्द उम्मीदें,
तुम ढूंढ रहे हो अंधेरो में रोशनी ,खुद को रोशन कर सको तो चलो,
कहां रोक पायेगा रास्ता कोई अपने भीतर जुनून बचा है तो चलो।
जलाकर खुद को रोशनी फैला सको तो चलो,
दूसरों को बदलने की चाह छोड़ कर, खुद बदल सको तो चलो।
याद रहें संघर्ष बिना सफलता पास न आती।
माना की मुश्किल था यह सफर लेकिन अंत में कुछ इस तरह से बदली पहर ज़िंदगी की।
-कुंज चन्ने


कुछ इस तरह से बदली पहर जिन्दगी की
कि मेरी जिन्दगी “मैं” से “हम ” में तब्दील हुई
मैं बेटी से बहू बनी
और फिर ” हम ” “जहाँ “में समा गया
जब मेरे बच्चे हुए , बड़े हुए ,
सबकी जिन्दगी है अब अपनी – अपनी
और मैं अब दुनिया के रहस्यों में हूँ उलझी।
-मंजू लता


कुछ इस तरह से बदली पहर ज़िन्दगी की
ले आई अनगिनत चमत्कार
खिल गए चेहरे थे जो उदास
मिली नकौरी काया पलटी
हर्ष, उल्लास और मिला आशीर्वाद
बाबुल की तमन्ना ने मुझे दिए पंख हज़ार
उन्मुक्त उड़ी , बे फिक्र उड़ी , हर उड़ान में
मिला बाबुल को विश्वास
क्योंकि मुझे मिला था बाबुल का साथ!
-हरमिंदर कौर


ज़माने के थपेड़ों में
कुछ इस तरह से बदली पहर जिंदगी की…
की मुझमें ‘मैं’ न फिर कभी नज़र आई!
मुक्कम्मल हर और से थी,
मगर दुनिया ने सिर्फ हर तरफ से
मुझमें कमियां ही भर –भर पाई!!
देखो तो !! – मैं उड़ती ही चली गई,
आसमान से परे,
और लोगों की दुनिया ईर्ष्या
करने में ही ठहर गई!!
-श्वेता


चहुँ ओर हरियाली छाई
पत्ता पत्ता, डाली डाली झूम रही
लहरा लहरा आंचल अपना
मंद मंद धरती मुस्काई
पीत वर्ण पुष्प व कलियां
बिखरें आभा जब सरसों
की शाख पर आईं।
-सुरक्षा खुराना


सरसों के शाख पर
नजर मेरी जब गई
देखकर मन मेरा प्रफुल्लित हुआ
जब देखा मधुमक्खियों और तितलियों को
व्यस्त अपने कामों में
समझ में आ गया
काम ही जीवन का आदि और अंत है ।
-मंजू लता


जब भी दबी हुई यादें बरबस बाहर निकलती है,
हम सूखे हुए गुलाब की एक पंखुड़ी उठा कर चूम लेते हैं
-इला पचौरी


सफाई के दौरान खोला
मैंने पुराना संदूक देखा
किताब में पड़ा था गुलाब की कुछ सूखी पंखुड़ी
एक पंखुड़ी उठाकर जब देखा
यादों के पन्ने लगे अठखेलियाँ करने
याद आया कालेज के वो दिन,
जब तुमने गुलाब के फूल के साथ
अपने प्यार का इजहार किया था मुझसे।।
-मंजू लता


पंखुड़ी थी वो एक गुलाब की
बन गयी एक किताब प्यार की
महक रही खुशबू उससे मिलन की
गूंज रही मधुर ध्वनि वही आज भी
-अनीता गुप्ता


जिंदगी एक गुलाब हैं।
गुलाब की हर पंखुड़ी,
जिंदगी के दुःख सुख की तरह हैं।
एक- एक पंखुड़ी उठाकर,
जब गुलाब की तह तक देखा।
तब समझ आया कि ,
हर पंखुड़ी अपने आप में बेहद खूबसूरत हैं।
इसी तरह जिंदगी का हर आलम,
दुख सुख से रहित बेहद खूबसूरत हैं।
-रेखा शर्मा


चल पड़ी थी मैं लम्बे सफर में
जानती थी…
राह में कठिनाइयाँ तो आएगी, मगर
कठिनाइयों से क्या घबराना
ये तो है जीवन की आंख मिचौनी
बस हिम्मत बनाए रखो, डटकर खड़े हो जाओ
कठिनाइयाँ दुम दबाकर भागती नजर आएंगी।।
-मंजू लता


सरसों की शाख़ पर
थिरकती देखी ओस
चंचल शोख रंग में डूबी
पल पल चमके लिए नूर
आते जाते राही को
लगे जैसे चमके कोहिनूर!
लहराती सरसों की शाख़ पर
भंवरे देखे खूब
पुल्कित होते पुष्पों से
चुरा रहे खुशबू
ले जाने को कहीं दूर
सबको देने सुकून!
-हरमिंदर कौर


खेतों में फैल गयी फसल सरसों की
आया बसंत भी जब खिले फूल पीले इसके
बनाया स्वादिष्ट साग सरसों की शाख का
मछली भी बनी सरसों वाली मसालेदार
काजल बना जला के दिया तेल सरसों का
पर कौवा न था कहीँ सरसों की शाख पर
-अनीता गुप्ता


घर सुगंधित हो उठा सब ओर खुशियां छाईं
एक पंखुड़ी उठाकर ईश्वर ने मुझे दी
दुआ के रूप में तुम मेरी गोदी में आईं।
-नीति जैन


अनमोल होती बहुत पंखुड़ियां
कोमल और नाजुक होती है पंखुड़ियां
एक पंखुड़ी उठाकर जो देखो
कितनी सूंदर होती है पंखुड़ियां
कभी खुशी के माहौल में
हवा में तितलियों सी उड़ा दी जाती
कभी शहीदों के छलनी शरीर पर
श्रद्धांजलि स्वरूप चढ़ा दी जाती
दुख और सुख दोनों में रूप एक
किंतु माहौल अलग बना जाती है पंखुड़ियाँ
इक पंखुड़ी उठा कर तो देखो
जाने कितने एहसास जगा जाती है पंखुड़ियाँ
इक पंखुड़ी उठाकर तो देखो
मन को कितना सहला जाती है पंखुड़ियाँ
-सीमा शर्मा दुबे


हज़ारों पंखुड़ियाँ बिखरी पड़ी थी-
अपने अक्स से परे
निस्तेज धरा पर पड़ी थी
नियति का प्रहार था
पतझड़ के आते ही
इन्हें शाख़ से अलग हो जाना था।
वृक्षों की शाखाएँ मौन थी,गमगीन थी
अपनो के बिछड़ने के वियोग से त्रस्त थी।
धरती आज इन पंखुड़ियों के रंग ,रूप,गंध से सजी थी-
मानो धरती के शृंगार ते लिए ही ये वँहा बिखरी थी।
एक पंखुड़ी उठाकर जब मैंने देखा
आँखों मे उसकी दर्प को देखा
मानो जीवन सफल हो जाने के उन्माद से भरी हो-
धरती माँ की गोद मे
न्यौच्छावर होने के अभिमान से सजी हो।
हर पंखुड़ी अपने आप मे एक क़िस्सा ब्यान कर रही थी-
मानो हर जन्म मे ये नियति सहर्ष स्वीकार करेंगी
ये संदेश मुझे वो दे रहीं थी…..
-प्रतिभा आहूजा नागपाल


जो था सो देखा आँख ने
जोड़ा वास्ता हर किसी से
पेड़, फूल,जंगल
नदी, पहाड़,समुद्र
सूर्य, पृथ्वी,आकाश
पशु,पक्षी,नाते-रिश्ते
सबकी नाराज़गी मिटा
जीते जी संबंध बनाए
-अनीता गुप्ता


आँखों की कला देखने की
देखती स्वयं जब आईना
सुंदर देखना चाहे खुद को
पर आसान न लगे इसे दु


kabhee namakeen ,kabhee meethee,
kabhee khattee kabhee kadavee bhee ho gaee.
kuchh is tarah badalee pahar zindagee kee.
-ila pachauree


dahaleej dil kee kabhee ..
udaas to kabhee roshan huee …
kuchh is tarah badalee pahar jindagee kee..!!
-(neh)


kuchh is tarah se badalee pahar zindagee kee…
saphar mein dhoop to bahut hogee tap sako to chalo,
bheed to bahut hogee naee raah bana sako to chalo.
maana ki manjil door hai ek kadam badha sako to chalo,
mushkil hoga saphar, bharosa hai khud par to chalo.
har pal har din rang badal rahee hai jindagee,
tum apana koee naya rang bana sako to chalo.
raah mein saath koee nahin milega akele chal sako to chalo,
mahaphooj raaston kee talaash chhod do dhoop mein tap sako to hee chalo,
chhotee-chhotee khushiyon mein jindagee dhoondh sako to chalo.
yahee hai zindagee kuchh khvaab chand ummeeden,
tum dhoondh rahe ho andhero mein roshanee ,khud ko roshan kar sako to chalo,
kahaan rok paayega raasta koee apane bheetar junoon bacha hai to chalo.
jalaakar khud ko roshanee phaila sako to chalo,
doosaron ko badalane kee chaah chhod kar, khud badal sako to chalo.
yaad rahen sangharsh bina saphalata paas na aatee.
maana kee mushkil tha yah saphar lekin ant mein kuchh is tarah se badalee pahar zindagee kee.
-kunj channe


kuchh is tarah se badalee pahar jindagee kee
ki meree jindagee “main” se “ham ” mein tabdeel huee
main betee se bahoo banee
aur phir ” ham ” “jahaan “mein sama gaya
jab mere bachche hue , bade hue ,
sabakee jindagee hai ab apanee – apanee
aur main ab duniya ke rahasyon mein hoon ulajhee.
-manjoo lata


kuchh is tarah se badalee pahar zindagee kee
le aaee anaginat chamatkaar
khil gae chehare the jo udaas
milee nakauree kaaya palatee
harsh, ullaas aur mila aasheervaad
baabul kee tamanna ne mujhe die pankh hazaar
unmukt udee , be phikr udee , har udaan mein
mila baabul ko vishvaas
kyonki mujhe mila tha baabul ka saath!
-haramindar kaur


zamaane ke thapedon mein
kuchh is tarah se badalee pahar jindagee kee…
kee mujhamen ‘main’ na phir kabhee nazar aaee!
mukkammal har aur se thee,
magar duniya ne sirph har taraph se
mujhamen kamiyaan hee bhar –bhar paee!!
dekho to !! – main udatee hee chalee gaee,
aasamaan se pare,
aur logon kee duniya eershya
karane mein hee thahar gaee!!
-shveta


chahun or hariyaalee chhaee
patta patta, daalee daalee jhoom rahee
lahara lahara aanchal apana
mand mand dharatee muskaee
peet varn pushp va kaliyaan
bikharen aabha jab sarason
kee shaakh par aaeen.
-suraksha khuraana


sarason ke shaakh par
najar meree jab gaee
dekhakar man mera praphullit hua
jab dekha madhumakkhiyon aur titaliyon ko
vyast apane kaamon mein
samajh mein aa gaya
kaam hee jeevan ka aadi aur ant hai .
-manjoo lata


jab bhee dabee huee yaaden barabas baahar nikalatee hai,
ham sookhe hue gulaab kee ek pankhudee utha kar choom lete hain
-ila pachauree


saphaee ke dauraan khola
mainne puraana sandook dekha
kitaab mein pada tha gulaab kee kuchh sookhee pankhudee
ek pankhudee uthaakar jab dekha
yaadon ke panne lage athakheliyaan karane
yaad aaya kaalej ke vo din,
jab tumane gulaab ke phool ke saath
apane pyaar ka ijahaar kiya tha mujhase..
-manjoo lata


pankhudee thee vo ek gulaab kee
ban gayee ek kitaab pyaar kee
mahak rahee khushaboo usase milan kee
goonj rahee madhur dhvani vahee aaj bhee
-aneeta gupta


jindagee ek gulaab hain.
gulaab kee har pankhudee,
jindagee ke duhkh sukh kee tarah hain.
ek- ek pankhudee uthaakar,
jab gulaab kee tah tak dekha.
tab samajh aaya ki ,
har pankhudee apane aap mein behad khoobasoorat hain.
isee tarah jindagee ka har aalam,
dukh sukh se rahit behad khoobasoorat hain.
-rekha sharma


chal padee thee main lambe saphar mein
jaanatee thee…
raah mein kathinaiyaan to aaegee, magar
kathinaiyon se kya ghabaraana
ye to hai jeevan kee aankh michaunee
bas himmat banae rakho, datakar khade ho jao
kathinaiyaan dum dabaakar bhaagatee najar aaengee..
-manjoo lata


sarason kee shaakh par
thirakatee dekhee os
chanchal shokh rang mein doobee
pal pal chamake lie noor
aate jaate raahee ko
lage jaise chamake kohinoor!
laharaatee sarason kee shaakh par
bhanvare dekhe khoob
pulkit hote pushpon se
chura rahe khushaboo
le jaane ko kaheen door
sabako dene sukoon!
-haramindar kaur


kheton mein phail gayee phasal sarason kee
aaya basant bhee jab khile phool peele isake
banaaya svaadisht saag sarason kee shaakh ka
machhalee bhee banee sarason vaalee masaaledaar
kaajal bana jala ke diya tel sarason ka
par kauva na tha kaheen sarason kee shaakh par
-aneeta gupta


ghar sugandhit ho utha sab or khushiyaan chhaeen
ek pankhudee uthaakar eeshvar ne mujhe dee
dua ke roop mein tum meree godee mein aaeen.
-neeti jain


anamol hotee bahut pankhudiyaan
komal aur naajuk hotee hai pankhudiyaan
ek pankhudee uthaakar jo dekho
kitanee soondar hotee hai pankhudiyaan
kabhee khushee ke maahaul mein
hava mein titaliyon see uda dee jaatee
kabhee shaheedon ke chhalanee shareer par
shraddhaanjali svaroop chadha dee jaatee
dukh aur sukh donon mein roop ek
kintu maahaul alag bana jaatee hai pankhudiyaan
ik pankhudee utha kar to dekho
jaane kitane ehasaas jaga jaatee hai pankhudiyaan
ik pankhudee uthaakar to dekho
man ko kitana sahala jaatee hai pankhudiyaan
-seema sharma dube


hazaaron pankhudiyaan bikharee padee thee-
apane aks se pare
nistej dhara par padee thee
niyati ka prahaar tha
patajhad ke aate hee
inhen shaakh se alag ho jaana tha.
vrkshon kee shaakhaen maun thee,gamageen thee
apano ke bichhadane ke viyog se trast thee.
dharatee aaj in pankhudiyon ke rang ,roop,gandh se sajee thee-
maano dharatee ke shrngaar te lie hee ye vanha bikharee thee.
ek pankhudee uthaakar jab mainne dekha
aankhon me usakee darp ko dekha
maano jeevan saphal ho jaane ke unmaad se bharee ho-
dharatee maan kee god me
nyauchchhaavar hone ke abhimaan se sajee ho.
har pankhudee apane aap me ek qissa byaan kar rahee thee-
maano har janm me ye niyati saharsh sveekaar karengee
ye sandesh mujhe vo de raheen thee…..
-pratibha aahooja naagapaal


jo tha so dekha aankh ne
joda vaasta har kisee se
ped, phool,jangal
nadee, pahaad,samudr
soory, prthvee,aakaash
pashu,pakshee,naate-rishte
sabakee naaraazagee mita
jeete jee sambandh banae
-aneeta gupta


aankhon kee kala dekhane kee
dekhatee svayan jab aaeena
sundar dekhana chaahe khud ko
par aasaan na lage ise du

Leave a Comment