कोई भी दर्द इतना बड़ा नहीं | ज़िन्दगी

कोई भी दर्द इतना बड़ा नहीं | ज़िन्दगी

कोई भी दर्द इतना बड़ा नहीं
जमाने का गम भी बुरा नहीं,
अपने ही अपनों के होते दुश्मन,
इससे बडा कोई धोखा नहीं। ।
-डाॅ राजमती पोखरना सुराना


ममतामयी मां…….
पहली औलाद ,पहला स्पर्श
स्तनपान कराते फेरे सर पर हाथ
रोम-रोम आसीसें देता
नज़र ना लगे ,काला टीका लगाते
जब सुडोल कोमल थे हाथ
ममतामयी वात्सल्य पूर्ण
भावनाओं से ओत -प्रोत
हाथों से खाना पका तुम्हें परोसती
गद् गद् हो तुम्हें निहारती
एक एक फंदे में प्यार बुन
इन सलाई सी उंगलियों से
स्वेटर तैयार कर
जाने कितनी बलाएं लेती
नाज़ों से पाला पोसा, भरपूर
उड़ेला प्यार- दुलार
इन हाथों से लगा मंगल टीका
रोज़ी रोटी कमाने रुखसत
किया विदेश
वक्त चाहे बदल जाए
यह काया चाहे ढ़ल जाए
चाहे पड़ जाए झुरियां
ममता तो अनमोल कहलाए
अब हुए यह बूढ़े हाथ……
यह बूढ़े हाथ दुआ करते हैं
सजदा करते हैं, रब के आगे
झोली फैलाते
जल्दी लौट आए स्वदेस
बूढ़ी आंखों का तारा, जान से प्यारा
क्यूं गया तू परदेस?
चूंकि जुदाई के दर्द से
बड़ा कोई दर्द नहीं।
-सुरक्षा खुराना


आज फिर कोई सपना टूटा है अगर
अपनों का साथ छूटा , लम्बा है सफ़र
अकेला है तो भी उठ चल अपनी डगर
भले अश्क आंखों में भरे हों फिर भी जरा दे मुस्कुरा
जिंदगी को मात दे सके कोई भी दर्द इतना भी नही है बड़ा।
-नीति जैन


कोई भी दर्द इतना बड़ा नहीं
कि आप इससे उबर ही न पाएं
बस जरूरत है एक मजबूत इच्छाशक्ति की
वक्त मरहम बन
आपके हर तकलीफ को हर ही लेगा।
-मंजू लता


कोई भी दर्द इतना बड़ा नहीं ,
कि मुझको मुझ से जुदा कर दे,
पलते सपनों को जो मिटा दे,
अंधकार से होकर जो गुजराना पड़े तो,
उम्मीद की एक किरण भी हौंसला भर दे,
हर कोशिश हर कदम को जीत में बदल दे !
-हरमिंदर कौर


जिंदगी की भाग दौड़ में ये हम कहां आ गए..
थक गए, रुक गए, फिर से चल दिये।
कल ही निकले थे, इतनी दूर आ गए।
अब सोचता हूं, ये हम कहां आ गए।
अपनों से दूर ये किस “शहर” आ गए।
खुद को भी नहीं पता हम कहां आ गए।
ज़िंदगी की दौड़ में ये हम कहाँ आ गए।
इस भाग दौड़ भरी जिंदगी में..
कितने अपने और पराये लोग गुज़र गए।
रिस्ते नाते सब टूट गए,
अपनो का साथ छूट गए फिर भी हम न रुके उस मंजिल की राह पर।
ज़िन्दगी की दौड़ में ये हम कहाँ आ गए।
कुछ सपने थे जिन्हे सच करने थे।
इसीलिए निकले थे, इतनी दूर आ गए।
ज़िन्दगी की दौड़ में ये हम कहाँ आ गए।
कामयाबी मिली, ख़ुशी मिली,
लेकिन खुशियां मनाने वाले वो अपने साथ नहीं रहे।
कामयाब हुए फिर भी कमी महसूस होती रही अपनो की;
जो मेरे अपने थे वो न जाने कहाँ चले गए।
ज़िन्दगी की दौड़ में ये हम कहाँ आ गए।
ज़िन्दगी की दौड़ में ये हम कहाँ आ गए।
-कुंज चन्ने


माना कि इस दौड़ती भागती जिंदगी में
मंजिल तक पहुँचने के लिए रफ्तार
बहुत जरूरी है।
किन्तु उस रफ्तार में मिल जाये संयम
और मर्यादा दुर्घटना कभी नहीं होगी ‘ ।
-मृदुला सिंह


देखो जिन्दगी की ये भागमभाग
वक्त नहीं है किसी के पास
जिन्दगी बन गई है मशीन समान
शून्यता समा गई है जीवन में ।
-मृदुला सिंह


कश्मकश ज़िन्दगी की
जिन्दगी को
जाने कहां ले जाना चाहती है
कोई अपना है नहीं
अपना बनाने चली रहती है
भीड़ है बस अपनो की
सब कुछ फरेब है
आपाधापी मचा रखी है
मगर दिल में जगह किसी के लिए नहीं है
घिर गया है इन्सान अपनी ही इच्छायों में
इल्जाम लगा रहा एक – दूसरे पर
समय रुका ही कब किसी के लिए
चलता ही जा रहा तेजी से !
-हरमिंदर कौर

koee bhee dard itana bada nahin | zindagee


koee bhee dard itana bada nahin
jamaane ka gam bhee bura nahin,
apane hee apanon ke hote dushman,
isase bada koee dhokha nahin. .
-dr raajamatee pokharana suraana


mamataamayee maan…….
pahalee aulaad ,pahala sparsh
stanapaan karaate phere sar par haath
rom-rom aaseesen deta
nazar na lage ,kaala teeka lagaate
jab sudol komal the haath
mamataamayee vaatsaly poorn
bhaavanaon se ot -prot
haathon se khaana paka tumhen parosatee
gad gad ho tumhen nihaaratee
ek ek phande mein pyaar bun
in salaee see ungaliyon se
svetar taiyaar kar
jaane kitanee balaen letee
naazon se paala posa, bharapoor
udela pyaar- dulaar
in haathon se laga mangal teeka
rozee rotee kamaane rukhasat
kiya videsh
vakt chaahe badal jae
yah kaaya chaahe dhal jae
chaahe pad jae jhuriyaan
mamata to anamol kahalae
ab hue yah boodhe haath……
yah boodhe haath dua karate hain
sajada karate hain, rab ke aage
jholee phailaate
jaldee laut aae svades
boodhee aankhon ka taara, jaan se pyaara
kyoon gaya too parades?
choonki judaee ke dard se
bada koee dard nahin.
-suraksha khuraana


aaj phir koee sapana toota hai agar
apanon ka saath chhoota , lamba hai safar
akela hai to bhee uth chal apanee dagar
bhale ashk aankhon mein bhare hon phir bhee jara de muskura
jindagee ko maat de sake koee bhee dard itana bhee nahee hai bada.
-neeti jain


koee bhee dard itana bada nahin
ki aap isase ubar hee na paen
bas jaroorat hai ek majaboot ichchhaashakti kee
vakt maraham ban
aapake har takaleeph ko har hee lega.
-manjoo lata


koee bhee dard itana bada nahin ,
ki mujhako mujh se juda kar de,
palate sapanon ko jo mita de,
andhakaar se hokar jo gujaraana pade to,
ummeed kee ek kiran bhee haunsala bhar de,
har koshish har kadam ko jeet mein badal de !
-haramindar kaur


jindagee kee bhaag daud mein ye ham kahaan aa gae..
thak gae, ruk gae, phir se chal diye.
kal hee nikale the, itanee door aa gae.
ab sochata hoon, ye ham kahaan aa gae.
apanon se door ye kis “shahar” aa gae.
khud ko bhee nahin pata ham kahaan aa gae.
zindagee kee daud mein ye ham kahaan aa gae.
is bhaag daud bharee jindagee mein..
kitane apane aur paraaye log guzar gae.
riste naate sab toot gae, apano ka saath chhoot gae phir bhee ham na ruke us manjil kee raah par.
zindagee kee daud mein ye ham kahaan aa gae.
kuchh sapane the jinhe sach karane the.
iseelie nikale the, itanee door aa gae.
zindagee kee daud mein ye ham kahaan aa gae.
kaamayaabee milee, khushee milee,
lekin khushiyaan manaane vaale vo apane saath nahin rahe.
kaamayaab hue phir bhee kamee mahasoos hotee rahee apano kee;
jo mere apane the vo na jaane kahaan chale gae.
zindagee kee daud mein ye ham kahaan aa gae.
zindagee kee daud mein ye ham kahaan aa gae.
-kunj channe


maana ki is daudatee bhaagatee jindagee mein
manjil tak pahunchane ke lie raphtaar
bahut jarooree hai.
kintu us raphtaar mein mil jaaye sanyam
aur maryaada durghatana kabhee nahin hogee .
-mrdula sinh


dekho jindagee kee ye bhaagamabhaag
vakt nahin hai kisee ke paas
jindagee ban gaee hai masheen samaan
shoonyata sama gaee hai jeevan mein .
-mrdula sinh


kashmakash zindagee kee
jindagee ko
jaane kahaan le jaana chaahatee hai
koee apana hai nahin
apana banaane chalee rahatee hai
bheed hai bas apano kee
sab kuchh phareb hai
aapaadhaapee macha rakhee hai
magar dil mein jagah kisee ke lie nahin hai
ghir gaya hai insaan apanee hee ichchhaayon mein
iljaam laga raha ek – doosare par
samay ruka hee kab kisee ke lie
chalata hee ja raha tejee se !
-haramindar kaur

Leave a Comment