क्या है कविता

क्या है कविता

ख्यालों में बुनी जाए
जज्बातों में कही जाए
वो है कविता
नम आंखों में मुस्कुराए
खामोशी में गुनगुनाए
वो है कविता

है इबादत कभी
गुरबाणी है कविता
राम की कथनी
कबीर के दोहे में कविता

मां की लोरी
उसकी डांट में कविता
बहन के लाड़
उसके प्यार में है कविता

पिता के शासन
प्रोत्साहन में है कविता
भाई की फटकार
उसके अधिकार में है कविता

प्रेमिका का आदर
उसके इंतजार में है कविता
मिलन में परस्पर
विछोह में है कविता

मातृभूमि के मान
सम्मान में है कविता
तिरंगे की शान
अभिमान में है कविता

गुरु चरणों में समर्पित
भक्ति में है कविता
ज्ञान में, ध्यान में
सर्व समर्पण में है कविता।।
– Nidhi Bansal


khyaalon mein bunee jae
jajbaaton mein kahee jae
vo hai kavita
nam aankhon mein muskurae
khaamoshee mein gunagunae
vo hai kavita

hai ibaadat kabhee
gurabaanee hai kavita
raam kee kathanee
kabeer ke dohe mein kavita

maan kee loree
usakee daant mein kavita
bahan ke laad
usake pyaar mein hai kavita

pita ke shaasan
protsaahan mein hai kavita
bhaee kee phatakaar
usake adhikaar mein hai kavita

premika ka aadar
usake intajaar mein hai kavita
milan mein paraspar
vichhoh mein hai kavita

maatrbhoomi ke maan
sammaan mein hai kavita
tirange kee shaan
abhimaan mein hai kavita

guru charanon mein samarpit
bhakti mein hai kavita
gyaan mein, dhyaan mein
sarv samarpan mein hai kavita..
– nidhi bansal

Leave a Comment