खोज/search

खोज Search

खोज

खुद को ना खोजो तुम
कागज की इन लकीरों में
खोजना ही है तो मेरे दिल में खोजो
बसे हो जहां तुम हसीन यादों में।

खोजो खुद को मेरी आंखों में तुम
रहते हो जहां एक मोती बनके
बह न जाओ तुम अश्क के साथ कहीं
इसीलिए जज्बातों को दबाए रखती हूं मैं।

जिस दिन मेरे दिल की गहराईयों में
खुद को खोज पाओगे तुम
उस दिन मेरी जान, खुद से भी
पराये हो जाओगे तुम |

~0~

khoj

khud ko na khojo tum
kaagaj kee in lakeeron mein
khojana hee hai to mere dil mein khojo
base ho jahaan tum haseen yaadon mein.

khojo khud ko meree aankhon mein tum
rahate ho jahaan ek motee banake
bah na jao tum ashk ke saath kaheen
iseelie jajbaaton ko dabae rakhatee hoon main.

jis din mere dil kee gaharaeeyon mein
khud ko khoj paoge tum
us din meree jaan, khud se bhee
paraaye ho jaoge tum |

~0~

– ranjeeta nath ghai

Search

You will not find yourself
In these ridges of this paper
You’ll find yourself in my heart where
You shall reside in my beautiful memories.
 
You’ll find yourself in my eyes
Secure, living as a pearl within
To avoid losing you as the tears flow out
I shall, therefore, hold down my emotions forever.
 
The day you’ll be able to find yourself
In the depths of my heart
My darling, that day onwards
Even for yourself, you shall be a stranger.

inspired by khoj/खोज  on dilkiaawazsunoblog

—–XxXxX—–

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: