तारों भरी रात है | जिसका हृदय विशाल हो | अंदर का सन्नाटा बोले | खुद को अपनाना सीखो

न रंज है किसी के लिए, न चिंता किसी ने क्या कहा
सोचना है इतना – मुझे करना है क्या?
ऐसे लोगों को कहते हैं मस्तमौला!
इनके पास ही है सच्ची दौलत का थैला।
क्यों ऐसी होती है इनकी जिंदगी?
“इनका हृदय विशाल है।”
हां, यही राज है।
— Rani Nidhi Pradhan


विशाल हृदय
हर कदम पर दूसरो का सोचने वालो का हृदय विशाल होता है, मसीहा बन कर अपना हाथ बढ़ाने वालो का मन साफ होता है,शुद्ध आत्म स्वरूप चेहरे पर दमकता है, जिन्होंने अपनी चुनौतियों को अपनी ताकत समझा है,उनका व्यक्तित्व भी विशाल होता है।।
— Shipra Bhagat Sachdeva


जिनका हृदय होता विशाल है
उनको न किसी से शिकवा, न ही कोई मलाल है
होती कोई शिकन न उनके चेहरों पर
उन्हें देख होता हर कोई खुशहाल है
विरले ही होते हैं ऐसे महान लोग भी
जिनका हृदय बहुत ही विशाल है!!
— Pushpa Pandey


अंदर का सन्नाटा बोले
बम बम भोले , बम बम भोले।
आ जा देव इस धरती पर
कब तेरा डमरू हाले डोले।।।
अनाचार की दुंदुभि बज रही
शोर गूँजता निर्मम दुर्विचार का।
मौन शांति तड़पे कारागार में
रूद्ध द्वार जाने कब तू खोले।।
दुर्गति की शर शैया पर घायल
प्राणों के भीष्म पितामह।
जीवन मरण बीच वह अटका
कब तू प्रेम तुलसी दल घोले।।
रोक सके तो रोक ले अब
पाप के इस तांडव नर्तन को।
घुल गया है विष कालिन्दी में
मन पंछी उड़ने को पर खोले।।
— Ranjana Majumdar


तारों भरी रात है | जिसका हृदय विशाल हो | अंदर का सन्नाटा बोले | खुद को अपनाना सीखो
तारों भरी रात है | जिसका हृदय विशाल हो | अंदर का सन्नाटा बोले | खुद को अपनाना सीखो

पल दो पल की जिंदगी,
यूँ ही चलती रहे है आशा,
दिल की भी ये अभिलाषा,
दुआ यही करते ईश्वर से!!
— Sarvesh Kumar Gupta

Leave a Comment