नए शहर की वो पहली रात [Naye Shahar Ki Woh Pahalee Raat]

नए शहर की वो पहली रात

नया था माहौल नयी सी बेचैनी
और नई सी आबोहवा थी
आँखों में कुछ नए-नए से सपने थे
कितने ही सवाल मन को गुद्गुताते थे
और कुछ मन में उलझने थी
याद है आज भी मुझे
नए शहर की वो पहली रात…

नए से घर में अनजान सी वो दीवारें थी
लंबी- लंबी सी सड़कों पर
नई-नई सी परछाईयाँ थी
नीम, बरगद और अशोक के पास
नई-नई सी दुकानें थी
याद है आज भी मुझे
नए शहर की वो पहली रात…

आधी रात की चांँदनी में भीगी हुई
रेशमी स्मुतियों की झालर थी
चम्पा के फूलों की भीनी-भीनी सी महक थी
मानो हल्दी का उपटन लगाये
सुनसान सी वो सडकें थी
याद है आज भी मुझे
नए शहर की वो पहली रात…

पुरानी सी संदूकों में दबी
नई-नई सी उम्मीदें थी
फासला था, कुछ मेरे नींद में और बिस्तर में
और चारों ओर दुनिया सो रही थी
अधजगी-सी अधसोई-सी लिख रही मैं ये कविता थी
याद है आज भी मुझे
नए शहर की वो पहली रात…

टिप्पणी

एक सैन्य पत्नी होने के नाते मैं अपने पति के साथ कई बार तबादले पर उनके साथ साथ एक शहर से दुसरे शहर भटकती रही हूँ|

अक्सर हमारा तबादला 2 वर्ष या फिर उससे कम में होता रहा है| हर बार जब हम किसी नए शहर में जाते हैं तब वहांँ की आबो हवा में एक अलग सा नशा होता है, कुछ अनकही सी कुछ अनसुनी सी कहानियांँ होती हैं जो उस जगह को और भी रोमांचक बना देती है|

नए शहर में हर रात अटकलें और नई चुनौतियों से भरी होती है। मेरी यह कविता हर उस जगह को सलाम करती है जहाँ जहाँ मैं अपने पति संग घूमी हूँ और हर वो शहर जिसने मुझे अपनाया है|


English Version of नए शहर की वो पहली रात

Naye Shahar Ki Woh Pahalee Raat

naya tha maahaul nayee see bechainee
aur naee see aabohava thee
aankhon mein kuchh nae-nae se sapane the
kitane hee savaal man ko gudgutaate the
aur kuchh man mein ulajhane thee
yaad hai aaj bhee mujhe
nae shahar kee vo pahalee raat…

nae se ghar mein anajaan see vo deevaaren thee
lambee- lambee see sadakon par
naee-naee see parachhaeeyaan thee
neem, baragad aur ashok ke paas
naee-naee see dukaanen thee
yaad hai aaj bhee mujhe
nae shahar kee vo pahalee raat…

aadhee raat kee chaanndanee mein bheegee huee
reshamee smutiyon kee jhaalar thee
champa ke phoolon kee bheenee-bheenee see mahak thee
maano haldee ka upatan lagaaye
sunasaan see vo sadaken thee
yaad hai aaj bhee mujhe
nae shahar kee vo pahalee raat…

puraanee see sandookon mein dabee
naee-naee see ummeeden thee
phaasala tha, kuchh mere neend mein aur bistar mein
aur chaaron or duniya so rahee thee
adhajagee-see adhasoee-see likh rahee main ye kavita thee
yaad hai aaj bhee mujhe
nae shahar kee vo pahalee raat…

Tippanee

Ek sainy patnee hone ke naate main apane pati ke saath kaee baar tabaadale par unake saath saath ek shahar se dusare shahar bhatakatee rahee hoon.

Aksar hamaara tabaadala do varsh ya phir usase kam mein hota raha hai. Har baar jab ham kisee naye shahar mein jaate hain tab vahaann kee aabo hava mein ek alag sa nasha hota hai, kuchh anakahee see kuchh anasunee see kahaaniyaann hotee hain jo us jagah ko aur bhee romaanchak bana detee hai.

Naye shahar mein har raat atakalen aur naee chunautiyon se bharee hotee hai.
Mere yah kavita har us jagah ko salaam karatee hai jahaan jahaan main apane pati sang ghoomee hoon aur jisane mujhe apanaaya hai.


Note

Being a military wife, I have been transferred several times with my husband, and I have been traveling from one city to another with him.

Often we have been transferred within the time span of 2 years or less. Every time we go to a new city, there is a different feel in the air, there are some unheard, some intriguing stories that make that place even more exciting.

Every night in the new city is full of speculations and new challenges. This poem of my heart salutes every place where I have been with my husband and every state that has adopted me and treated me as it’s own showering me with loads of love.

 

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

28 Comments

  1. सुंदर कविता जिसे आपने अपने अनुभव से सँवारा हैं

  2. Very beautiful and yes it’s always a very different kinda feeling with lot of questions in mind..for the new place the new adjustments and all.. splendid as always…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: