नवरात्री Poems And Micropoetry in Hindi

नवरात्री Poems And Micropoetry in Hindi

शक्ति स्वरूपा ‌मैं समस्त विकारों का संहार करने की क्षमता रखती हूं।
काम, क्रोध,लोभ,मोह, अहंकार जैसे असुर मेरे शस्त्रों के आगे थर्राते हैं।
निर्मलता, पावनता, प्रेम,आनंद और शांति ही मेरे निजी गुण हैं।
आओ भस्म करें इन आसुरी शक्तियों को और समस्त विश्व को
प्रकाशित करें अपनी परम चैतन्य शक्ति से।
-मधु खरे


नौ रूपों में सजती माँ
हर रूप को बारम्बार है
ज्ञान-ध्यान, जप – तप, रिद्धि – सिद्धि
सब तेरा ही प्रसाद है
खिल उठते हैं आँगन – प्रांगण
हर तरफ तेरा ही उपकार है
चित चितवन बन जाए उपवन
देख के जो तेरा श्रृंगार है !
-हरमिंदर कौर


माँ दुर्गा ! प्रतीक शक्ति का
माँ , बहन , बेटी का रूप है तुममें
स्नेह बंधन से सबको संवारे
बल , बुद्धि से सबको नवाजे
दुष्टों का संहार करे
संसार का उद्धार करे
निर्मल और पावन बनाए ।।
-मंजू लता


“मां दुर्गा”
मां दुर्गा तुम शक्ति का अवतार
करती मां तुम दुष्टों का संहार
मां के हाथ सोहे चक्र, धनुष,
त्रिशूल और तलवार
देती ज्ञान का वरदान,
करती भक्तों का बेड़ा पार
सत ,रज ,तम पर हो नियंत्रण
त्रिशूल देता यह मूल मंत्र
शंख करता गुंजायमान ओम् ध्वनि
सर्प दर्शाता शरीर में शक्ति कुंडलिनी
अच्छा स्वास्थ्य सकारात्मकता
की जगाए चेतना यह कुंडलिनी
मां नौ रूपों में पूजी जाती जो
कहलाती महिषासुरमर्दिनी
-सुरक्षा खुराना


दीपो ज्योति परं ब्रह्म
शुभं करोति कल्याणम
दीपो नमोस्तुते ।।
…..दीप प्रज्वलन
शुभ, आरोग्य एवमं
कल्याण करता ,
..ऐसे दीप को नमन।।
शुभ कार्यों का आरंभ
दीप प्रज्वलन से,
जलते दीप की ज्योति
सदा ऊपर उठी रहती,
सदा ऊपर उठे रहने में
हम सबका कल्याण है,
..ऐसे दीप को नमन।।
-अनीता गुप्ता


अच्छा हो अगर
जले दीप से दीप,
ये संभव हो जब
आयें समीप दीप ।।
-सर्वेश कुमार गुप्ता


चंड हूं प्रचंड हूं
ज्वाला मैं प्रखंड हूं
कालिका माहेश्वरी
योगेश्वरी बागेश्वरी
भोग का प्रसाद हूं
माथे का सिंदूर हूं
हरतालिका पूर्णेश्वरी
त्रियंबकम नाटेश्वरी
मुष्टिका प्रहार हूं
त्रिलोचनी, मैं रुद्र हूं
जगदंबिका दुर्गेश्वरी
परमेश्वरी भूतेश्वरी
-निधि बंसल


दीयों की चमक और मंत्रोच्चार की गूंज के साथ ही
मेरे मन का मैल सब धुल गया
अन्दर का टिमटिमाता लौ प्रज्जवलित हो उठा
आशाएं प्रखर हुईं , मैं उठ खड़ी हुई
समाज के प्रति दायित्व का बोध जो हो गया ।
-मंजू लता


उषा का उषा से नमन
हो रहा है,
श्री राम का आगमन
हो रहा है।
हर कली खिल रही है
पवन चल रही है।
अयोध्या नगरी भी
प्रफ़ुल्लित हो रही है।
एक ध्वनि चहु ओर
गूंज रही है।
“जय राम राम श्री राम राम
दशरथ के राम, मानस के राम।
जन जन के राम श्री राम राम।
जय राम राम,जय राम राम!!
-अनीता गुप्ता


shakti svaroopa ‌main samast vikaaron ka sanhaar karane kee kshamata rakhatee hoon.
kaam, krodh,lobh,moh, ahankaar jaise asur mere shastron ke aage tharraate hain.
nirmalata, paavanata, prem,aanand aur shaanti hee mere nijee gun hain.
aao bhasm karen in aasuree shaktiyon ko aur samast vishv ko prakaashit karen apanee param chaitany shakti se.
-madhu khare


nau roopon mein sajatee maan
har roop ko baarambaar hai
gyaan-dhyaan, jap – tap, riddhi – siddhi
sab tera hee prasaad hai
khil uthate hain aangan – praangan
har taraph tera hee upakaar hai
chit chitavan ban jae upavan
dekh ke jo tera shrrngaar hai !
-haramindar kaur


maan durga ! prateek shakti ka
maan , bahan , betee ka roop hai tumamen
sneh bandhan se sabako sanvaare
bal , buddhi se sabako navaaje
dushton ka sanhaar kare
sansaar ka uddhaar kare
nirmal aur paavan banae ..
-manjoo lata


“maan durga”
maan durga tum shakti ka avataar
karatee maan tum dushton ka sanhaar
maan ke haath sohe chakr, dhanush,
trishool aur talavaar
detee gyaan ka varadaan,
karatee bhakton ka beda paar
sat ,raj ,tam par ho niyantran
trishool deta yah mool mantr
shankh karata gunjaayamaan om dhvani
sarp darshaata shareer mein shakti kundalinee
achchha svaasthy sakaaraatmakata
kee jagae chetana yah kundalinee
maan nau roopon mein poojee jaatee jo
kahalaatee mahishaasuramardinee
-suraksha khuraana


deepo jyoti paran brahm
shubhan karoti kalyaanam
deepo namostute ..
…..deep prajvalan
shubh, aarogy evaman
kalyaan karata ,
..aise deep ko naman..
shubh kaaryon ka aarambh
deep prajvalan se,
jalate deep kee jyoti
sada oopar uthee rahatee,
sada oopar uthe rahane mein
ham sabaka kalyaan hai,
..aise deep ko naman..
-aneeta gupta


achchha ho agar
jale deep se deep,
ye sambhav ho jab
aayen sameep deep ..
-sarvesh kumaar gupta


chand hoon prachand hoon
jvaala main prakhand hoon
kaalika maaheshvaree
yogeshvaree baageshvaree
bhog ka prasaad hoon
maathe ka sindoor hoon
harataalika poorneshvaree
triyambakam naateshvaree
mushtika prahaar hoon
trilochanee, main rudr hoon
jagadambika durgeshvaree
parameshvaree bhooteshvaree
-nidhi bansal


deeyon kee chamak aur mantrochchaar kee goonj ke saath hee
mere man ka mail sab dhul gaya
andar ka timatimaata lau prajjavalit ho utha
aashaen prakhar hueen , main uth khadee huee
samaaj ke prati daayitv ka bodh jo ho gaya .
-manjoo lata


usha ka usha se naman
ho raha hai,
shree raam ka aagaman
ho raha hai.
har kalee khil rahee hai
pavan chal rahee hai.
ayodhya nagaree bhee
prafullit ho rahee hai.
ek dhvani chahu or
goonj rahee hai.
“jay raam raam shree raam raam
dasharath ke raam, maanas ke raam.
jan jan ke raam shree raam raam.
jay raam raam,jay raam raam!!
-aneeta gupta

Leave a Comment