मैं क्यों लिखती हूँ

मैं क्यों लिखती हूँ

डाॅ राजमती पोखरना सुराना सृजन

मुझे भी नहीं पता मैं क्यों लिखती हूँ,
पर मन की पीड़ा करती है विचलित,
दिल अथाह वेदना से होता है ग्रसित,
अपने भी जब दर्द का सैलाब देते हैं,
अश्रु आँखो से अनवरत बरसते हैं,
अल्फ़ाज़ एक एक कर पृष्ठ पर उभरते हैं।

जमाने की बेरुखी से जब भीगती हूँ ,
तब… तब …तब शायद मैं लिखती हूँ।


main kyon likhatee hoon

mujhe bhee nahin pata main kyon likhatee hoon,
par man kee peeda karatee hai vichalit,
dil athaah vedana se hota hai grasit,
apane bhee jab dard ka sailaab dete hain,
ashru aankho se anavarat barasate hain,
alfaaz ek ek kar prshth par ubharate hain.

jamaane kee berukhee se jab bheegatee hoon,
tab… tab …tab shaayad main likhatee hoon.

Leave a Comment