मैं क्यों लिखती हूँ

मैं क्यों लिखती हूँ

जब दिल के भाव और जज्बातों को
बोल कर बयां नहीं कर पाती
कागजा पर हर्फ दर हर्फ उतार
देती हूँ इसलिए मैं लिखती हूँ।

मचलते अरमानों को अपने
अर्न्तद्वन्द को शब्दो में पिरोकर
कविता, गजल, शायरी की शक्ल
देती हूँ।

इसलिए मैं लिखती हूँ।
– Mridula Singh



main kyon likhatee hoon

jab dil ke bhaav aur jajbaaton ko
bol kar bayaan nahin kar paatee
kaagaja par harph dar harph utaar
detee hoon isalie main likhatee hoon.

machalate aramaanon ko apane
arntadvand ko shabdo mein pirokar
kavita, gajal, shaayaree kee shakl
detee hoon.

isalie main likhatee hoon.

Leave a Comment