मैं लिखती हूं क्योंकि

मैं लिखती हूं क्योंकि

नीति जैन सृजन

मैं क्यों लिखती हूं
मैं लिखती हूं क्योंकि
जब मेरे अहसास मैं छुपाना भी चाहती हूं
और जताना भी चाहती हूं, तब
कलम मेरा हाथ थामे
एक कोरे से रास्ते पर चलता चला जाता है
और कह लेती हूं उससे
जो भी मेरे जी में आता है
सफ़र से लौटते वक्त अहसास होता है,
रास्ते के सारे उतार चढ़ाव का
दिल सुकून से भर जाता है
मेरा हाथ कलम के सहारे
फिर नये सफ़र पर निकल जाता है।

main likhatee hoon kyonki

main kyon likhatee hoon,
main likhatee hoon kyonki
jab mere ahasaas main chhupaana bhee chaahatee hoon
aur jataana bhee chaahatee hoon, tab
kalam mera haath thaame
ek kore se raaste par chalata chala jaata hai
aur kah letee hoon usase
jo bhee mere jee mein aata hai
safar se lautate vakt ahasaas hota hai ,
raaste ke saare utaar chadhaav ka
dil sukoon se bhar jaata hai
mera haath kalam ke sahaare
phir naye safar par nikal jaata hai.

Leave a Comment