सिर्फ तू

सिर्फ तू

सिर्फ तू

एक भीनी भीनी सी महक
आज भी मेरे साँसों में है
तेरे तसव्वुर का असर
आज भी सलामत मेरे ज़ेहन में है…
तड़प उठता है दिल, तुझे
अक्सर तन्हाई में याद करके
खामोश रहते हैं लब,
ना बोले बेशक ये ज़रा
लेकिन आँखों में तेरी हसरत
आज भी समाए रहती है|

~०~

कहते हैं लोग, तड़प मिलने की न हो
तो मज़ा कहाँ इश्क में
कोई पूछे तो हमसे की
तुझसे मिलने की आरज़ू
हम कैसे इस दिल में दबाए रहते हैं…
वक्त आएगा हमारा भी
इसी उम्मीद पर जिया करते हैं|
पसंद है; चाहत है; जुनून है तू मेरा,
तुझसे जुदा हो ना जी पाएंगे
ये वादा है आज तुझसे मेरा|

रंजीता नाथ घई 

—–XxXxX—–

sirph tu

ek bheenee bheenee see mahak
aaj bhee mere saanson mein hai
tere tasavvur ka asar
aaj bhee salaamat mere zehan mein hai…
tadap uthata hai dil, tujhe
aksar tanhaee mein yaad karake
khaamosh rahate hain lab,
na bole beshak ye zara
lekin aankhon mein teree hasarat
aaj bhee samae rahatee hai

~0~

kahate hain log, tadap milane kee na ho
to maza kahaan ishk mein
koee poochhe to hamase kee
tujhase milane kee aarazoo
ham kaise is dil mein dabae rahate hain…
vakt aaega hamaara bhee
isee ummeed par jiya karate hain
pasand hai; chaahat hai; junoon hai too mera,
tujhase juda ho na jee paenge
ye vaada hai aaj tujhase mera

 

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

15 Comments

  1. Very beautifully associated lines….. for the one you love deeply…pyaar ki gahrai ka sunder varnan ❤️👏🏻👏🏻

  2. वाह बहुत खूब
    वक़्त आएगा इस उम्मीद पर हम सब उम्र गुज़ार देते हैं।👌👌
    प्रेम में पगी रचना

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: