स्मृति

स्मृति हर गुज़ारे लम्हे की

स्मृति

रंजीता नाथ घई

स्मृति

चले आते हो यादों में,
कभी ठंडी हवा ,
कभी सैलाब बन कर,
भिगो जाते हो,
रूह के रोम-रोम को,
कभी ओस, तो कभी,
बारिश बनकर….

हर गुज़ारा लम्हा,
याद आता है रह-रह कर,
कभी देता है हिम्मत,
तो कभी दर्द बेशुमार,
हंसा जाता है कभी,
तो बह जाता है कभी,
आँसूं बन कर…..

—–XxXxX—–

smrti

chale aate ho yaadon mein,
kabhee thandee hava ,
kabhee sailaabh ban kar,
bhigo jaate ho,
rooh ke rom-rom ko,
kabhee os, to kabhee,
baarish banakar….

har guzaara lamha,
yaad aata hai rah-rah kar,
kabhee deta hai himmat,
to kabhee dard beshumaar,
hansa jaata hai kabhee,
to bah jaata hai kabhee,
aansoon ban kar…..

2 thoughts on “स्मृति हर गुज़ारे लम्हे की”

  1. बहुत सुन्दरता से अपनी यादों को इस कविता में व्यक्त किया… अति सुंदर

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Don`t copy text!