ranjeeta nath ghai

About The Author

ranjeeta nath ghai

मेरी माँ गुजराती और पिता असमिया हैं| एमएच आगरा कैंट, उत्तर प्रदेश में मैं जन्मी हूँ| माता और पिता दोनों आर्मी में डॉक्टर थे| एक पंजाबी से मेरी शादी हुई जो आर्मी में ऑफिसर हैं| “मान की आरज़ू” मेरी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश है, जो मैंने 1985 से आज तक लिखी गई है। सेना अधिकारियों की बेटी और पत्नी होने के नाते मुझे भारत के कई लोगों और सांस्कृतिक समुदाय से जुड़ने का सुनहरा मौका मिला है|

शायद ही कभी मैं किसी भी राज्य में 2 साल की अवधि से अधिक रही हूँ| एक ग्राफिक डिजाइनर के रूप में अपना होनहार कैरियर बढ़ाते हुए मैंने एक शिक्षाविद के रूप में एक समानांतर कैरियर बना लिया है, ताकि उसके विस्तार के परिवार के साथ अधिक समय बिता सकूँ।

कवितायेँ लिखना और पढना मेरा शौक ही नहीं मेरा जुनून भी है| मेरी हर कविता की प्रेरणा मुझे ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिली है|

एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में मैंने जीवन को भरपूर जीया है।

“मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया  है।”


meree maan gujaraatee aur pita asamiya hain| emech aagara kaint, uttar pradesh mein main janmee hoon| maata aur pita donon aarmee mein doktar the| ek panjaabee se meree shaadee huee jo aarmee mein ophisar hain| “maan kee aarazoo” meree kuchh kavitaon ko prakaashit karane kee pahalee koshish hai, jo mainne 1985 se aaj tak likhee gaee hai.

sena adhikaariyon kee betee aur patnee hone ke naate mujhe bhaarat ke kaee logon aur saanskrtik samudaay se judane ka sunahara mauka mila hai| shaayad hee kabhee main kisee bhee raajy mein 2 saal kee avadhi se adhik rahee hoon| ek graaphik dijainar ke roop mein apana honahaar kairiyar badhaate hue mainne ek shikshaavid ke roop mein ek samaanaantar kairiyar bana liya hai, taaki usake vistaar ke parivaar ke saath adhik samay bita sakoon.

kavitaayen likhana aur padhana mera shauk hee nahin mera junoon bhee hai| meree har kavita kee prerana mujhe zindagee ke alag alag rangon se milee hai| ek betee, ek maan, ek phaujee patnee, ek blogar, ek graaphik dijainar, ek adhyaapika aur ek lekhika ke roop mein mainne jeevan ko bharapoor jeeya hai.

“meree kismat ne mujhe sab kuchh diya hai aur zindagee ne bahut kuchh sikhaaya hai| aaj apane ateet mein jhaankatee hoon to mujhe koee aphasos nahin hota hai kyonki main apane jeevan ke har pal ko apane junoon, apane niyamon aur apanee sharton par jiya  hai.”

Follow Me On Social Media

Don`t copy text!