अतिथि Post

अतिथि Post: धक्कमधुक्की (PUSH AND PULL)

अतिथि Post: धक्कमधुक्की (PUSH AND PULL) कल सुबह से ही दिन थोड़ा आलस वाला था । ये बदलता मौसम ही आलस दे जाता है , कई सारे काम सुबह से इंतजार कर रहे थे और  मन सब कुछ लटका रहा था । मै कई बार उठी काम करने के लिये और वापस आलस्य मे पड़ गयी । …

अतिथि Post: धक्कमधुक्की (PUSH AND PULL) Read More »

मै खुद से खुद को जोड़ आई

अतिथि Post: Ranjeeta Ashesh-मैं खुद से खुद को जोड़ आई

मैं खुद से खुद को जोड़ आई बेपरवाह, बेसुध सा समन्दर मस्ताए, अपने खारेपन पर देखो कितना इतराए, उसकी भीगी रेत पर मै पैरों के निशां छोड़ आई, मैं खुद से खुद को जोड़ आई। उन्मुक्त गगन को, कैसे घूरता जाए, जुनून से किनारे पर हड़कम्प मचाए, देख रंगत उसकी,मै संकोच का शीशा तोड़ आई …

अतिथि Post: Ranjeeta Ashesh-मैं खुद से खुद को जोड़ आई Read More »

हिंदी का बहिष्कार क्यों

अतिथि Post: Rishika Ghai-हिंदी का बहिष्कार क्यों?

हिंदी का बहिष्कार क्यों? हिंदी से सरल कोई भाषा नही फिर भी झिझक होती है बोलने में इतनी न जाने ऐसे क्यों होता है? मातृभाषा होते हुए भी नकारी जाती है और अंग्रजी को बड़ावा मिलता है देशवासी भूल जाते है अक्सर की राष्ट्रभाषा हिंदी हि सब भाषाओं का मिश्रण है| “हिंदी बोलने से हमारा …

अतिथि Post: Rishika Ghai-हिंदी का बहिष्कार क्यों? Read More »

अतिथि पोस्ट: Anupama Jha, अमर कविता

अमर कविता अमर,अजेय निर्भीक, निर्भय सब कालों में व्याप्त है कोई उसका पर्याय नहीं यह स्वयं पर्याप्त है, शब्द है यह गाथा है काव्य है,यह कविता है हर युग में, हर काल में लिखा गया,कवि मन का गीत यह शब्दों की सरिता है। रौद्र कभी,वात्सल्य कभी कभी विभत्स, कभी श्रृंगार है छंदो में बहता मलय …

अतिथि पोस्ट: Anupama Jha, अमर कविता Read More »

Don`t copy text!