कुछ बिखरी यादें, कुछ बिखरे पल

कुछ बिखरी यादें, कुछ बिखरे पल

  कुछ बिखरी यादें, कुछ बिखरे पल मुट्ठी भर राख और कुछ बिखरी यादें रह जाती हैं जो रह रह कर हमें आंसुओं में भिगो जाती हैं| कागज़ की कश्ती, रेत के घरोंदे बनाते बचपन बीता, बस यादों…

स्मृति हर गुज़ारे लम्हे की

स्मृति

–रंजीता नाथ घई स्मृति चले आते हो यादों में, कभी ठंडी हवा , कभी सैलाब बन कर, भिगो जाते हो, रूह के रोम-रोम को, कभी ओस, तो कभी, बारिश बनकर…. हर गुज़ारा लम्हा, याद आता है रह-रह कर,…

लम्हें

लम्हें

रंजीता नाथ घई लम्हें शायद ही हम कोई ऐसा लम्हा जीए जाते हैं, जो तुम्हारी याद से वाबस्ता ना हो, दिल की धड़कन से साँसों तक की मंजिल में, हर मोड़ पर हम, तुम्हारे ही अफसाने बसाए जाते…