सपने

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे पर जब तुम पास होते हो मेरे तो सपने सच होते हैं सारे नभ का अँधेरा छट जाता है अधूरे खवाब पूरे होते हैं जब चाँद मेरा नज़र आता है तब सपने जवां होते हैं तुम आओगे …

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे Read More »

apne sapno mein हम अपने सपनों में जीते मरते हैं

हम अपने सपने में जीते मरते हैं

हम अपने सपने में जीते मरते हैं हम अपने सपने में जीते मरते हैं पर ये तो हमारी किस्मत ही बताएगी कि कौन किसके पनाह में है… सपने होते हैं परछाई से जो रात ढ़लते आते हैं और दिन चढ़ते लुप्त हो जाते हैं, पर जाते-जाते मन में एक अजीब सी कसक छोड़ जाते हैं कभी न …

हम अपने सपने में जीते मरते हैं Read More »

Don`t copy text!