mann ki aarzoo | मन की आरज़ू

mann ki aarzoo मन की आरज़ू

mann ki aarzoo | मन की आरज़ू

झूटी कसमें… टूटे वादे
बिखरे ख्वाब, अधूरे सपने,
नादान सी हसरतें,
कुछ मचलती ख्वाहिशें;
और फिर वही रंजिशें हैं|
गुज़रे लम्हों और
उम्मीदों की कश्ती पर सवार,
अनंत ही तो हैं इस चंचल
मन की आरज़ू…

कभी रोकर
तो कभी हँसकर ही सही,
हर इलज़ाम
हमने अपने सर ही पाया है|
तमन्नाओं का गला घोंट,
तन्हाई संग रास रचाया,
इस ख़ामोशी में भी
तेरी यादों को हर पल संग पाया,
ना शिकवे, ना शिकायत,
दर्द से रिश्ता जोड़,
आज… आज इस
मन की आरज़ू
को दफ़नाया है….

(4th अक्टूबर 2015)

—–XxXxX—–

mann ki aarzoo | मन की आरज़ू

jhootee kasamen… toote vaade
bikhare khvaab, adhoore sapane,
naadaan see hasaraten,
kuchh machalatee khvaahishen;
aur phir vahee ranjishen hain|
guzare lamhon aur
ummeedon kee kashtee par savaar,
anant hee to hain is chanchal
mann ki aarzoo…

kabhee rokar
to kabhee hansakar hee sahee,
har ilazaam
hamane apane sar hee paaya hai|
tamannaon ka gala ghont,
tanhaee sang raas rachaaya,
is khaamoshee mein bhee
teree yaadon ko har pal sang paaya,
na shikave, na shikaayat,
dard se rishta jod,
aaj… aaj is
mann ki aarzoo
ko dafanaaya hai….

(4th October 2015)

You May Also Like

About the Author: Ranjeeta2018

कवितायेँ लिखना और पढना रंजीता का शौक ही नहीं पर जुनून भी है| उनकी हर कविता की प्रेरणा उन्हें ज़िन्दगी के अलग अलग रंगों से मिलती है| "मन की आरज़ू" उनकी कुछ कविताओं को प्रकाशित करने की पहली कोशिश थी , जो वह 1985 से आज तक लिखी गई है। इसके बाद तो मानो एक कतार सी लग गयी है किताबों की... एक बेटी, एक माँ, एक फौजी पत्नी, एक ब्लॉगर, एक ग्राफिक डिजाइनर, एक अध्यापिका और एक लेखिका के रूप में रंजित नाथ घई का जीवन एक पूर्ण चक्र आ गया है। "मेरी किस्मत ने मुझे सब कुछ दिया है और ज़िन्दगी ने बहुत कुछ सिखाया है| आज अपने अतीत में झांकती हूँ तो मुझे कोई अफसोस नहीं होता है क्योंकि मैं अपने जीवन के हर पल को अपने जुनून, अपने नियमों और अपनी शर्तों पर जिया है। "

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: