अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली   वह पगली पता नही कहाँँ से आई थी “वह पगली” सबकी आँँखोंं को बडी ही भायी थी “वह पगली”  बडी अजीब थी, मलिन चेहरा ,मरियल सी देह कांंतिविहिन काया की धनी थी “वह पगली” कभी मंंदिर की सीढियोंं पर , कभी हाट-बाजारोंं मेंं कभी नदियोंं-नालोंं पर बैठी नजर … Read more अतिथि Post: Sarita Pandey, वह पगली

सिर्फ तू

सिर्फ तू

सिर्फ तू एक भीनी भीनी सी महक आज भी मेरे साँसों में है तेरे तसव्वुर का असर आज भी सलामत मेरे ज़ेहन में है… तड़प उठता है दिल, तुझे अक्सर तन्हाई में याद करके खामोश रहते हैं लब, ना बोले बेशक ये ज़रा लेकिन आँखों में तेरी हसरत आज भी समाए रहती है| ~०~ कहते … Read more सिर्फ तू

Don`t copy text!