आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे

आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे आकाश बहुत ऊँचा है और दूर बहुत हैं तारे पर जब तुम पास होते हो मेरे तो सपने सच होते हैं सारे नभ का अँधेरा छट जाता है अधूरे…

Advertisement

loading...